हमार देश

एक आम आवाज

237 Posts

4359 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4243 postid : 737165

मूरख पंचायत ,......झूठी पिकनिक और .....२

Posted On: 30 Apr, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

गतांक से आगे …….

बाबा बोले ………..“…… मायावती जब काशीराम की शिष्या थी ,…तब दलित बेटी थी ,…जबसे मालिक बनी तबसे एकक्षत्र दौलत की बेटी बन गयी ,………दिखावा दलित का .. काम मालदार माफियाओं का !….मायाराज में टंटे बवाल के अलावा कितने दलितों का उद्धार हुआ !……सरकारी स्कूलों में शिक्षा नहीं मिली ,….हम गरीब का बच्चा का पढ़ेगा …..बिना पढ़े कौन बढेगा !……..स्वामीजी सबके खातिर समान गुणवान शिक्षा चाहते हैं !…..अंग्रेजी कांग्रेस राज में कितने गरीब अंग्रेजी जानते हैं ,…स्वामीजी हर भारतीय भाषा का उत्थान चाहते हैं ,…तब सबका उत्थान होगा !……स्वामीजी सबका सम्मान सबका स्वाभिमान चाहते हैं ,…स्वभिमानहीन आरक्षण की अधिकाँश मलाई चंद मलाईदार चाटते हैं !….बाकी हमलोग मूरखता में बहिनजी का झंडा ढोते हैं !….”

आक्रोशित युवा शान्ति से बोला ………….“…हम चाहेंगे मायावती स्वामीजी के खिलाफ आन्दोलन करे !……हम लोग उनके आन्दोलन में जाकर सब सच्चाई बताएँगे दिखायेंगे ,……स्वामीजी के बनाए सब संस्थान साधना किसकी खातिर हैं ,…….स्वामीजी किसी गरीब का नही खाते .. रोज सैकड़ों हजारों को खिलाते हैं !….. महर्षी वाल्मीकि धर्मशाला संत रविदास लंगर किसकी सेवा करते हैं !…..जातिवादी ठेकेदारों ने सबका कितना नुक्सान किया है ,….सब नर नारी कैसे एकजुट होंगे ,…भारत स्वाभिमान का रास्ता मंजिल का है ,…हर इंसान कैसे स्वाभिमान सम्मान से जियेगा !….हम आपसी रगड़ को प्रेम में कैसे बदलें !….फिर मायावती के पालतू फैन उनका झंडा छोड़कर देश का झंडा उठा लेंगे !…. मायावती भी अकड़ अहंकार लालच छोड़कर राष्ट्रहित में झुक जायेगी ! ..”

बाबा ने शान्ति हिलाई ………………“…खयाली पुलाव अलग चीज है !…..कोई सच के सम्मान में झुके चाहे अकड़ के टूटे ,…हमका का है ,..लेकिन … सब चोर डाकू मिटेंगे जरूर !,…सर्वजन का हित केवल स्वामीजी मोदी कर सकते हैं !…..सब जन ई बात जानते हैं ,…फिरौ कुछ लोग फिर फिर मूरख बनते हैं !……. सबको देख आजमा लिया ,….सब खाने खिलाने पचाने में उस्ताद हैं बस !…..ईका लाभ दुश्मन राक्षस उठाते हैं ,…..कौन बोला था ,….तिलक तराजू और तलवार सबको मारो जूते चार !…. अपनी खातिर सजा मांगे !…”

युवा बहू फिर बोली ……………“..आखिरकार सजा से कौन बचा काका !……फिर फिर मूरख बनना मजबूरी है !…..उनके कैडर पदाधिकारी गुलाम चम्मच बने हैं !……..बेचारे ठेकेदारों माफियाओं थाना पुलिस की दलाली करते हैं ,……..सरकारी योजनाओं में हिस्सा खाते हैं !….खाऊ ठेकेदारी करते हैं !…….उनको ऊपर से आदेश आया ,….दो बस ट्राली भरी चाहिए ,….निचले गुलाम तिकड़म लालच डरा फुसलाकर भर ले जाते हैं !….हमार फुफेरा भाई यहै करता है !…”

युवा का गुस्सा फिर बढ़ा ………….. “….माया ने जोड़ने की जगह समाज और तोड़ा ,….बांटकर राज करना आदिम कांग्रेसी फितरत है !…..बदहवास कांग्रेस ने बीच चुनाव में धर्मी आरक्षण का कुटिल दांव फेंका है ,…माया उनकी पक्की चमची बनी है !………काहे न जीभ लपलपाये !……स्वामीजी ने राहुल गांधी के सिवा कौनो इंसान समुदाय को कतई नीचा नहीं दिखाया है ,…फिरौ सरल ह्रदय सन्यासी ने किसी को चोट महसूस करने पर खेद प्रगट किया है !…. उनको नीचा दिखाने वाले एकदिन खुद पर रोयेंगे !… स्वामीजी को जेल भेजेंगे तो हजारों लाखों रामदेव खड़े हो जायेंगे ,…राष्ट्र खातिर समर्पित करोड़ों देशभक्तों की फ़ौज खड़ी है !……..”

“.ई फौजे देश उठाएगी !….लखनऊ डीएम स्वामीजी पर रोक लगाया है !…….”………….अधेड़ ने सवाल सा किया तो युवा ने उत्तर दिया

“..लखनऊ में रोक लगाना अगवानी कसरत है ,…हर जगह की तरह लखनऊ में हजारों हिन्दू मुसलमान सिख इसाई पूरी देशभक्त जनता स्वामीजी से दीक्षा लेने आई !…..मुसलमानों ने राष्ट्रऋषि का जोरदार इस्तकबाल किया ,….सपा बसपा कांग्रेस को सांप सूंघा होगा !……जाती धर्मी आधार पर समाज देश बांटे वाले दलालों से जन एकजुटता कैसे बर्दाश्त होगी !……तीस को स्वामीजी अमेठी पहुँचते तो राहुल की हार और पक्की हो जाती !…….सत्ता की मानना डीएम का मजबूरी है ,…मुलायम सोनिया कुनबे जोर से एकजुट हैं ..सब जगह रोक लगायेंगे !…”

अधेड़ फिर बोले …….“..चाहे बाहरौ से एक होकर चुनाव लड़ें …हारेंगे जरूर !…..मुलायम के भरपूर साथ के बादौ अमेठी रायबरेली बचाना असंभव लागे !…”………….

बाबा अनुभवी ऊँगली हिलाकर बोले …………….“..अमेठी रायबरेली बेहाल हैं ,…कांग्रेसी हार पक्की लागे …लेकिन जुगाड़ सब लगायेंगे !……चौतरफा अपराधी चम्मच उनके ,.सरकारी मशीनरी उनकी ,….बूथ ऊ कब्जाते हैं ,..चुनाव आयोग उनके दाब में ,….घोटालेबाज चुनावी मशीन उनकी ,…अकूत लूटे हैं ,…कुछ नोट भी बांटेंगे !…”

युवा फिर तमका ………..“..ऊ चाहे जो करें बाबा …..हर हाल में हारेंगे !….मक्कारी का नतीजा और भीषण होगा !……स्वामीजी के अनंत प्रयास से बहुतेरी जनता जाग गयी है ,…कबहूँ वोट न देने वाले लोग लाइन में लगते हैं !…हर घर से मोदी को वोट मिलेगा ….मोदी युवा भारत की उम्मीद हैं !…………….अच्छा आगे सुनो …”

युवा ने फिर अपने कागज़ पर निगाह गड़ाई ………… “..पुराना सवाल फिर है ,.. बाबा कौन है ?…..काहे हमेशा लुटेरों के निशाने पर हैं !………. पूरी दुनिया में इनकी पहचान योगऋषि से है ,…स्वामीजी योग से दुनिया में सुख शान्ति भरना चाहते हैं !….स्वामीजी योग से भारत का सर्वांगी उत्थान फिर करना चाहते हैं !..सच कहना .. सच खातिर लड़ना उनका स्वभाव है ,….ऊ शूरवीर सन्यासी हैं !….गुरु गोविन्द सिंह ने कहा है ,…शूरा सो पहिचानिए जो लड़ें दीन के हेत !….पुर्जा पुर्जा कट मरे तबहुँ न छोड़े खेत !…..स्वामीजी हर दीनदुखी खातिर शैतानों से भिड़े हैं !…………..गरीब अनपढ़ माँ बाप के घर पैदा हुए रामकृष्ण ने बचपने में घर छोड़ दिया !…… दुखी अंधियारी दुनिया में प्रकाश लाना था ,…….गुरुकुल में पढ़े बढे फिर पढ़ाने लगे ,….पुरातन भारतीय विद्या के साथ आचार्यों संतों गुरुओं का आशीर्वाद मिलता गया ,…साधना की अनमोल पूँजी बढती गयी ,… फिर प्रत्यक्ष मानव सेवा में जुट गए ,….सबको योग सिखाना शुरू किया ,……गुरुकुली साथी धन्वन्तरी अवताररूप आचार्य बालकृष्ण का अटूट साथ मिला ,….दोनों महापुरुष दुखी रोगी मानवता को योग आयुर्वेद से सुखी निरोग करने लगे ,…..कारवां बढ़ता रहा मंजिलें मिलती गयी !……..सच्ची मानव सेवा के महान काम में अनेकों हाथ साथ होते गए ,…..हर वर्ग सम्प्रदाय का इंसान इनसे जुड़कर सच्ची दिव्य ख़ुशी पाता है !….. नर सेवा नारायण सेवा का हर काम जोरदार सफलता से बढ़ता रहा ,….योग आयुर्वेद के साथ स्वदेशी कृषि शुद्ध व्यापार गौ उत्थान जड़ी बूटी शिक्षा अनुसंधान का काम चलता रहा ,….सोयी मानवता के जागने का समय दिखने लगा ,…..दिन चढ़े तक सोने वाले करोड़ों आलसी ब्रम्ह मुहूर्त में उठे लगे ,….. गुफाओं फाइवस्टार कमरों में दबे छुपे आसन प्राणायाम सीखे ,……कपालभाँति अनुलोम विलोम का ज्ञान हर जन को हो गया ,…सनातन प्राण महाविज्ञान के चमत्कार सामने आने लगे ,..असाध्य बीमारियों का जाल टूटने लगा ….स्वामीजी ने करोड़ों लोगों को योग सिखाया !….योग अपनाने वाले हर इंसान को सुख शान्ति सेहत मिली !…..नशे में फंसी अनेकों बर्बाद जिंदगियों में रौनक लौटी !….तमाम आखिरी साँसे गिनने वालों को नया जीवन मिला !…….छींक आने पर जहरीली सुई गोली लेने वाले हमलोग दिव्य जड़ी बूटी खाने लगे !….भूला बिसरा प्राकृतिक अमृत हम फिर पाने लगे ,……नुकसानदेह विदेशी कोला चिप्स बर्गर पिज्जा चाय की जगह लाभदायक स्वदेशी दिव्य पेय शरबत मुरब्बा बिस्कुट आदि खाने पीने की आदत पड़ने लगी !….विदेशी सामानों से पटे बाजारों में स्वदेशी केन्द्रों की धूम मच गयी !……योगपीठ की तरफ से हजारो वैद्य मुफ्त इलाज करते हैं ,……भारतीय आयुर्वेद के सब रस रसायन वटी क्वाथ अरिष्ट आसव लोगों की जुबान पर चढ़ने लगे …अनेकों दुष्प्रचारों के बीच सबसे सस्ता सबसे अच्छा का दावा सौ फीसदी सच्चा साबित हुआ ,…भारत के करोड़ों उपभोक्ता उत्पादक किसान खुश हो गए ,…बाकी ख़ुशी की बाट जोहने लगे ,..लाखों किसान लाभदायक कुदरती सीखकर करने सिखाने लगे !…..पतंजलि योगपीठ और साथी संस्थाओं में तमाम भारतीय युवाओं को सम्मानित रोजगार मिला…………विदेशी दवा दारू तम्बाकू मंजन क्रीम कोला कंपनियों को नुक्सान होने लगा !……..उनके कुछ राजदलालों ने बदनाम करने का काम यहाँ से शुरू किया ,…….लेकिन …यहाँ तक सब ठीक था ,….हर नेता स्वामीजी की चरणधूलि लेने को उतावला था ,….उनका आतिथ्य करके सरकारें धन्य हो जाती थी ,….सब दल के तमाम मुख्यमंत्री केंद्र मंत्री हाथ जोड़े लाइन में खड़े रहते थे !….लेकिन योग यात्रा की मंजिल भारत का पूर्ण उत्थान थी ,…………

सोने की चिड़िया महान भारत भयानक आपदकाल से गुजर रहा है ,…कान्ग्रेसमय काले लूटतंत्र की बेहयाई बेशर्मी सर चढ़कर बोलने लगी !…..अंग्रेजतंत्र हमको नोचता हुआ भारत को बेदम करता रहा ,…..गांधी कंपनी का पक्का गुलाम प्रधानमंत्री मालिकों खातिर घोटाले महाघोटाले करवाता रहा ,….देश लूटने वाले चोर डाकुओं दलालों दामादों को बचाता रहा ,… लूटा धन छुपाने वाले हसन अली जैसे लोग छुट्टा मौज करने लगे ,…..बाल गांधियों का अंकल क्वात्रोची भारी बेफोर्स दलाली से बाइज्जत बरी हुआ,…दलाली खाने वाले खाते खुल गए !…… कोयला लोहा टूजी जीजाजी कामनवेल्थ आदर्श टेट्रा हेलीकाप्टर जैसे अनेकों घोटाले महाघोटाले दाब दिए गए !…..सबूत मिटने तक एफ़आईआर दर्ज न हुई ,……मंत्रालयों में सबूत जलाए गए ,…. चोरी हुई ,..जासूसी हुई !…….कालाधन मालिकों की सूचना पर गुलाम सत्ता कुंडली मारे बैठी रही !…..सफेदपोश काले कुबेरों के नाम होने के बावजूद देश उनको कर्णधार समझता रहा !……….महालूटों के कारण मंहगाई सातवें आसमान पर पहुँच गयी ,…तमाम करों के क्रूर जाल में जनता पिसती मरती रही ,……गुलाम गांधी कुनबा मस्त एशपरस्ती में जुटा रहा ,…..अन्नदाता किसान अंग्रेजी जाल में मौत ढूंढता रहा !……धरा पर अनमोल वरदान गायें बेहिसाब कटती रही !………अनमोल भारतीय ज्ञान मूल्य परम्परा शिक्षा नैतिकता बर्बाद होने की कगार पर पहुँच गयी ….शासन व्यवस्था कुटिल क्रूर नेताओं का गुलाम बन गयी ,..मुंहलगे अधिकारी व्यापारी ठेकेदार रोज करोडो खाने उड़ाने लगे …चंहुओर नशा वासना अपराध आतंक अत्याचार अन्याय का बोलबाला बढ़ता रहा ,..न्यायतंत्र अपंग लाचार अन्यायी हो गया !………….सोने के चिड़िया भारत का सैकड़ों लाख करोड़ काला धन देश विदेश में जमा है ,…लूट भ्रष्टाचार से बर्बाद भारत गरीबों में भी गरीब होता गया ,….लुटेरी इन्डियन सत्ता दिन में चाक चांदनी दिखाता रहा ,…देश बर्बाद होता रहा !……गांधियों के मार्फ़त विदेशी राक्षसों का चिट्टा चेहरा फोर्ड फाउंडेशन भारतद्रोही नीतियां बनवाता रहा !…….

ई सब देख स्वामीजी से रहा न गया !…..हर वर्ग प्रांत पंथ के करोड़ों देशभक्त उनके पीछे डटे थे ,….देश स्वामीजी की जिम्मेदारी बन गया ,……ऊ लाखों किलोमीटर की यात्रा करके कालाधन लाने भ्रष्टाचार मिटाने क्रूर अर्थतंत्र बदलने ,…अंग्रेजी कानून हटाने ,…शिक्षा संवारने …किसान की खुशहाली लाने ..गौहत्या रोकने … भारतीय भाषा भेषज को बढाने की मांग रखी !….गुलाम प्रधानमन्त्री मंत्रिमंडल ने सब मांगो को जायज बताकर खारिज कर दिया !….काहे से कि उनके मालिक नाजायज गांधी लोग थे …देश द्रोही देशहित की मांगों से कतई सहमत नहीं हो सकते थे ,..कुटिल विदेशी लूटतंत्र का पूरा बंटाधार हो जाता !….

फिर स्वामीजी के सामने आन्दोलन के सिवा कोई रास्ता नहीं बचा !……चार जून सन ग्यारह को दिल्ली में महान आन्दोलन घोषित किया ,..डाकू सरकार में बेचैनी बढ़ी !…पहले साम दाम से निपटाने के सोची … मौजूदा महामहिम समेत चार भीमकाय मंत्री स्वामीजी को लेने हवाई अड्डे पहुंचे !…दंडवत किया ,…मिजाजपुर्सी किया ,…धन सुविधा सम्मान का भारी लालच दिया ,…लेकिन स्वामीजी देश की मांगों पर अडिग रहे ….स्वामीजी के साथ हजारों लोग आमरण अनशन पर बैठे !……सरकार दिन भर कुटिल खेल खेलती रही !…..लालच खुशामदीद के बाद सत्ता भय दिखाया !…..फिरौ न माने तो आधी रात में मार देने का गुप्त हुक्म दिया !…..दिल्ली पुलिस की भयानक बर्बरता कोई कभी न भूलेगा !…..सैकड़ों लोग जख्मी हुए ,…राजबाला शहीद हुई !….देशहित में महान आन्दोलन खातिर स्वामीजी शिवाजी की तरह बच निकले !…

तब से अब तक ऊ फिर दिन रात जुटे हैं !..भारत विजय तक जुटे रहने का उनका संकल्प है ,……शैतान राजतंत्र उनको गिराने का हर दांव चलाया ,….सीबीआई बैठाई ,..झूठा फर्जीवाड़ा बताकर आचार्य जी को जेल भेजा ,…सैकड़ों की तादाद में मुक़दमे चल रहे हैं ,…हर विभाग से जांच कराई ,….लेकिन मिला कुछौ नहीं !…चाहे जितना रगड़ो ….खरा सोना खरे रहेगा !………..देश स्वामीजी से नया राष्ट्रदल चाहता था ,….लेकिन हमारी घोर मूरखता आड़े आ गयी !…..हम अंध जातिवादी पन्थवादी नशेडी विकारी आलसी अज्ञानी मूरख हैं !…….बिना जनविकार दूर किये राष्ट्रदल कैसे सफल होता ,…ई लिए स्वामीजी ने देश के मुद्दों खातिर मोदीजी को जबरदस्त समर्थन दिया ,..खुद घूमघूमकर योगदीक्षा देते हुए जनजागरण में जुटे रहे ,……मोदी भाजपा ने हमारे मुद्दों को माना अपनाया है !……सीधा सीधा घोषणा पत्र में लिखने का साहस नहीं किये लेकिन हमारे मुद्दे पूरे करने का वचन हर तरह से दिया हैं !……स्वामीजी हर तरह से हर इंसान का दुःख मिटाने में जुटे हैं ,…. स्वार्थियों अज्ञानियों के सिवा पूरा देश उनका मुरीद है ,…….खिलाफत करने वाले बिके स्वार्थी गुलाम हैं या हमहू से बहुत बड़े मूरख !….”……………….क्रमशः

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran